Home जीवनमंत्र ‘कबीर लहरी समंद की, मोती बिखरे आई।’- जीवनसूत्र 24सी

‘कबीर लहरी समंद की, मोती बिखरे आई।’- जीवनसूत्र 24सी

महात्मा कबीर वाणी

जिस प्रकार हीरे की गुणवत्ता को जौहरी ही परख सकता है। उसी प्रकार वस्तु या व्यक्ति के गुणों को पारखी ही समझ सकता है।

गुणों को समझने के लिए भी गुणी होना जरुरी है। हर पीली वस्तु सोना नहीं होती है और काली हो जाने से चांदी लोहा नहीं हो जाती।
महात्मा कबीर का एक अति सुंदर दोहा है-
कबीर लहरि समंद की, मोती बिखरे आई।
बगुला भेद न जानई, हसां चुनी-चुनी खाई।।

अर्थात समुंद की लहरों से मोती आकर बिखर गए। बगुला को मोती का भेद नहीं पता चला। लेकिन हंस ने चुन-चुन कर मोती खाए। परख का गुण ना होने के कारण बगुला ने मोती नहीं खाए और हंस ने मोती चुन लिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

उजाला नगर से नशीला पदार्थ बेचता शख्स गिरफ्तार, हेरोइन बरामद

हरियाणा राज्य स्वापक नियंत्रण ब्यूरो, यूनिट हिसार ने किया गिरफ्तार महम, 3 फरवरी हरियाणा राज्य स्वापक नियंत्रण ब्यूरो, यूनिट...

शुक्रवार को महम में हुआ हीरामल जमाल का सांग

प्रदीप राय कर रहे हैं महम में सांग महम, 3 फरवरी महम में इन दिनों रविदास चैपाल के पास...

महम में हुई आम आदमी पार्टी कार्यकर्ता मिटिंग

डाॅ. अनूप कुमार ने किया कार्यकर्ताओं को संबोधित महम, 3 फरवरी महम के वार्ड दस के परसवाला मौहल्ला की...

परिजनों के सामने दो बाइक सवार छात्रा को ले भागे

पिता ने दी पुलिस को शिकायत महम, 3 फरवरी गांव सिंहपुरा कला से एक छात्रा को परिजनों की आंखों...

Recent Comments

error: Content is protected !!