Home अपराध भारतीय रेलवे में नौकरी दिलवाने के नाम पर फसाते थे बेरोजगारों को,...

भारतीय रेलवे में नौकरी दिलवाने के नाम पर फसाते थे बेरोजगारों को, ठगे 17 लाख 80 हजार रुपए! फर्जी लेटर भी किए जारी! गृहमंत्री अनिल विज को दी शिकायत पर डीएसपी महम ने की जांच! मामला दर्ज

कई लोगों से ठगे पैसे, भंडाफोड़ होने पर हुआ मामला दर्ज

महम
बेरोजगारों को नौकरी के नाम पर ठगी के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। बेरोजगार नौकरी पाने के लालच में फस जाते और ठगी का शिकार हो जाते हैं। महम चौबीसी के गांव गिरावड़ के तीन लोगों तथा एक अन्य महिला पर आरोप है कि ये भारतीय रेलवे में नौकरी दिलवाने के नाम पर बेरोजगारों के साथ ठगी करते थे। यहां तक इन्होंने फर्जी ज्वाइनिंग लैटर तक भी जारी कर दिए थे।
धोखाधड़ी के शिकार एक व्यक्ति ने इस संबंध में प्रदेश के गृहमंत्री अनिल विज को पत्र लिखा था। जिस पर डीएसपी महम ने जांच की तो आरोपियों के खिलाफ महम उपमंडल के लाखनमाजरा थाना क्षेत्र में मामला दर्ज किया गया है।
ऐसे फसाया
बहुअकबरपुर निवासी बिट्टू पुत्र जय सिंह ने अपनी शिकायत में कहा है कि उनके घर गांव गिरावड़ निवासी मंजीत व प्रदीप पुत्रान सुरेश का आना जाना था। प्रदीप व मंजीत ने बताया कि उनकी भारतीय रेलवे में काफी जान-पहचान है। वे काफी बच्चों को नौकरी लगवा चुके हैं। अगर कोई बेरोजगार हो तो भारतीय रेलवे में नौकरी लगवा सकते हैं। बिट्टू का कहना है कि वे प्रदीप व मन्जीत की बातों में आ गए।
इनसे ठगे पैसे
बिट्टू का कहना है कि उन्होंने पहले उसकी पत्नी सरिता व बुआ कविता को रेलवे में नौकरी लगवाने के लिए प्रदीप व मन्जीत को दो लाख 10 हजार रुपए दे दिए। उसके बाद बिट्टू के मित्र सतीश पुत्र आनंद पाल ने अपने भाई सुरेंद्र की नौकरी के लिए मंजीत, प्रदीप व उनके चाचा विष्णु पुत्र सूबे को सात लाख रुपए दिए।
इसके अतिरिक्त सतीश ने मंजीत व प्रदीप के कहने पर एक अन्य आरोपी हरजीत कौर के खाते में एक लाख 50 हजार रुपए जमा करवाए।
बिट्टू का कहना है कि उन्होंने उनके भांजे प्रिंस पुत्र अनिल निवासी गांव गोपालपुर जिला सोनीपत की नौकरी के लिए पांच लाख दस हजार रुपए भी आरोपियों को दिए। एक अन्य रिश्तेदार प्रदीप पुत्र मोहन ने नौकरी के लिए दो लाख 10 हजार रुपए आरोपियों को दिए।
लेटर ले लिए वापिस
छानबीन पर पता चला कि आरोपियों ने उनके साथ धोखाड़ी की है। रेलवे ने नौकरी के लिए कोई लेटर जारी नहीं किए थे। इसके बाद उन्होंने आरोपियों से बात की तो उन्होंने कहा कि सरकार ने भर्तियां रद्द कर दी है। बेरोजगारों को मिनिस्ट्री कोटे से लगवा दिया जाएगा। इसके बाद भी वे अलग-अलग बहाने बनाते रहे। आखिर में आरोपियों ने पैसे वापिस करने की बजाय डराना-धमकाना भी आरंभ कर दिया।
लाखनमाजरा थाना में इस संबंध में मामला दर्ज कर लिया गया है। पुलिस ने आगे की कार्रवाई आरंभ कर दी है। (एफआईआर)

24c न्यूज की खबरें ऐप पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें 24c न्यूज ऐप नीचे दिए लिंक से

Link: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

’वाटर बम’ बन सकती है महम ड्रेन, क्षमता से तीन गुणा है ड्रेन में पानी

टूटने से बचाना है तो लिफ्ट या कंकरीट की दीवारें बनानी ही होंगी ढलान कम होने के कारण बार-बार...

100 से अधिक नागरिकों की हुई निःशुल्क हृदय जांच

रामगोपाल सामान्य एवं जनाना अस्पताल में लगाया शिविर महममहम में पंचायती रामलीला मैदान के सामने स्थित रामगोपाल सामान्य एवं...

सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने किया सैमाण व बेडवा के खेतों का दौरा

अधिकारियों को दिए खेतों से बारिश के पानी की जल्द निकासी के निर्देंश महमराज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने सोमवार...

बसपा ने चिराग योजना के विरोध में किया प्रदर्शन

नायब तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन महममहम हलके के बसपा कार्यकर्ताओं ने सोमवार को चिराग योजना के विरोध में प्रदर्शन...

Recent Comments

error: Content is protected !!