Home अन्य कृष्णा बसें लगा रही हैं सरकार को प्रतिमाह लाखों रूपयों का चूना

कृष्णा बसें लगा रही हैं सरकार को प्रतिमाह लाखों रूपयों का चूना

बसों को देनी होती है अड्डा फीस, अड्डों पर जाती ही नहीं बसें

महम में चल रही मुहिम के दौरान सामने आया चौकाने वाला तथ्य
महम

हरियाणा रोड़वेज की तो अधिकतर बसें महम के अंदर से आना आरंभ हो गई हैं। राजस्थान रोड़वेज की बसें भी अंदर से आ जाती हैं। कृष्णा बसों के चालक व परिचालक अभी भी नहीं मान रहें। यदि महम के बस अड्डा इंचार्ज की माने तो ये बसें राज्य सरकार को प्रति माह लाखों रूपए का चुना भी लगा रही हैं। इन बसों को जिला रोहतक में महम, रोहतक व सांपला में अड्डा फीस भी देनी होती है।
ऐसा लगभग चार साल से चल रहा बताया जा रहा है। महम में इन दिनों बसों को महम के बस स्टैंड से होकर गुजराने की मुहिम चली हुई है। इस मुहिम की अगुवाई कर रहे समाजिक कार्यकर्ता राकेश भारद्वाज ने बताया कि मुहिम का असर भी है। हरियाणा रोड़वेज के सभी डिपों की अधिकतर बसें अब महम के अंदर से जा रही हैं। अन्य राज्यों की बसों में भी सुधार है। लेकिन कृष्णा बसें अभी भी महम बाईपास होकर ही हिसार या दिल्ली के लिए जा रही हैं।
रोड़वेज विभाग ने महम में आठ रोड़वेज कर्मियों व अधिकारियों की ड्यूटी केवल इसलिए लगाई हुई है कि सभी बसें महम से होकर गुजरें। ड्यूटी पर तैनात उपनिरीक्षक कुलदीप व इंद्रराज ने बताया कि कृष्णा बसें तो उनके रोकने पर भी नहीं रूकती और सीधी चली जाती हैं।
बचा रहे हैं अड्डा फीस
कुलदीप व इंद्रराज ने बताया कि नियमानुसार कृष्णा बसों को महम में 100 रूपए अड्डा फीस देनी होती है। इनकी 16 बसें हैं। ऐसे में आते-जाते प्रत्येक बस को 100-100 रूपए की पर्ची कटवानी पड़ती है। सभी बसों के फेरे महम से हों तो अकेले महम बस स्टैंड की प्रतिदिन 3200 रूपए की पर्ची बनती हैं। लेकिन बसें यहां आती ही नहीं। महम के अड्डा इंचार्ज रमेश ठकराल ने बताया कि सरकार के आर्थिक नुकसान के साथ-साथ सवारियां भी परेशान होती हैं। सवारियों को या तो बैठाते नहीं बैठाते हैं तो हाईवे पर ही उतार देते हैं। ज्यादा किराया वसूली की जानकारियां भी मिल रही हैं।
बुधवार को हुआ एक चालान
रमेश ठकराल ने बताया कि कृष्णा बसों के खिलाफ कार्रवाई का अधिकार डीटीओ को है। बुधवार को डीटीओ ने औचक निरीक्षण किया था और एक बस का चालान भी काटा था। तब कुछ कृष्णा बसें महम अड्डा पर आई भी थी। उनकी पर्ची कटी है। लेकिन उसके बाद फिर कोई बस यहां नहीं आई। यह भी बताया गया कि ये अधिकतर बसें रोहतक व सांपला बस अड्डों पर भी नहीं जाती। सीधी बाईपास निकल जाती हैं। वहां भी इन्हें अड्डा फीस देनी होती है। ऐसे में प्रतिमाह लाखों रूपयों को चूना हरियाणा सरकार को लग रहा है। समाजिक कार्यकर्ता राकेश भारद्वाज का कहना है कि वे इस मामले में तब तक चुप नहीं बैठेंगे जब तक ये बसें महम के अंदर से ना आएंगी। सरकार को इस ओर तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए। इंदु दहिया/ 8053257789

24c न्यूज की खबरें ऐप पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें 24c न्यूज ऐप नीचे दिए लिंक से

Link: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

महिला ने लगाया आरोप, सप्ताह में एक बार आता कूड़ा लेने ट्रैक्टर

सामाजिक कार्यकर्ता ने सफाई निरीक्षक के खिलाफ कार्रवाई के लिए लिखा पत्र महम, 9 दिसंबर महम नगरपालिका को लेकर...

ट्रैक्टर से कुचल कर हत्या करने का आरोप

लाखनमाजरा थाना क्षेत्र के गांव घड़ावठी का मामला महम, 9 दिसंबर लाखनमाजरा थाना क्षेत्र के गांव घड़ावठी में एक...

फरार हुए ऑयल मिल मालिक विपुल सिंगला गिरफ्तार

महम पुलिस ने किया गिरफ्तार महम, 8 दिसंबरकुछ दिन पहले महम से फरार हुए बांके बिहारी ऑयल मिल के...

महम में अतिक्रमण हटाने के लिए 48 घंटे का नोटिस

नगरपालिका सचिव ने लिखा सभी ट्रेड यूनियनों को पत्र नगर आयुक्त रोहतक से आए आदेशमहम, 8 दिसंबर महम में...

Recent Comments

error: Content is protected !!