Home जीवनमंत्र खुद अच्छे, तो सब अच्छे- जीवनमंत्र 24 सी

खुद अच्छे, तो सब अच्छे- जीवनमंत्र 24 सी

आज का जीवनमंत्र

सौजन्य से इंदू विजय दहिया

बात कुछ पुराने जमाने की है। एक गांव के बाहर एक वृद्ध बाबा बैठा था। उसी समय एक घुड़सवार आया और वृद्ध बाबा से पूछा ‘बाबा इस गांव के लोग कैसे हैं। मैं यहां बसना चाहता हूं।’
बाबा ने पूछा ‘जिस गांव से तुम आए हो उस गांव के लोग कैसे हैं।’
घुड़सवार ने कहा ‘वहां के लोग बहुत बुरे हैं, तभी तो मैं वो गांव छोड़ कर आया हूं।’
बाबा ने कहा ‘मैं दोनों गांवों के लोगों को जानता हूं। इस गांव के लोग उस गांव के लोगों से ज्यादा बुरे हैं। आप कहीं और जाकर बसना।’
तभी वहां एक बैलगाड़ी आकर रुकी। उसमें भी एक परिवार था। इस परिवार के मुखिया ने बाबा से पूछा ‘बाबा इस गांव के लोग कैसे हैं। हम यहां बसना चाहते हैं।’
बाबा ने उनसे भी वही सवाल पूछा-‘जिस गांव से आप आएं है, उस गांव के लोग कैसे हैं।’
बैलगाड़ी वाले ने कहा-‘बाबा उस गांव के लोग बहुत अच्छे हैं। वो तो किसी कारण से हमें वो गांव बदलना पड़ रहा है, लेकिन हम वो गांव बदलना बिल्कुल नहीं चाहते थे।’
बाबा ने कहा ‘तो आइए-इस गांव में आपका स्वागत है। इस गांव के लोग उस गांव से भी अच्छे हैं।’
घुड़सवार हैरान था।
बाबा ने कहा ‘व्यक्ति खुद अच्छा होता है, तभी उसे दूसरे भी अच्छे दिखाई देते हैं।’
ओशो प्रवचन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पत्नी ने पति पर लगाए गंभीर आरोप। घर से बरामद करवाई अवैध पिस्तौल

कहा घर आते ही करता था मारपीट महममहम चौबीसी के गांव मोखरा एक महिला ने अपने पति पर गंभीर...

महम के क्रांति चौक से बाइक चोरी

महम थाने में करवाया गया मामला दर्ज महममहम के क्रांति चौक पर स्थित सिवाच फोटो स्टेट के सामने से...

महाराजा अग्रसेन स्कूल महम में अग्रसेन जयंती पर हुआ समारोह

प्रतिमा पर माल्यापर्ण किया तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए महममहम के महाराजा अग्रसेन पब्लिक स्कूल में अग्रकुल के...

राजा दशरथ को श्रवण के माता-पिता से मिला पुत्र वियोग में मरने का श्राप, ऐतिहासिक पंचायती रामलीला का मंचन शुरु

आदर्श रामलीला भी सोमवार की रात्रि से हो रही है आरंभ महममहम में रामलीलाओं का मंचन आरंभ हो गया...

Recent Comments

error: Content is protected !!