Home अन्य तालाब खो गया, ट्रैक बन गए, ये बीच में क्या रह गया?...

तालाब खो गया, ट्रैक बन गए, ये बीच में क्या रह गया? 24c न्यूज विशेष

सफल हुई तो अच्छी है आगे की योजना

नागरिक चाहते हैं यहां बने लघु जलघर
कसाइयों वाले तालाब परिसर पर विशेष
महम

तालाब की नही, शायद पार्क और ट्रैक की जरूरत थी, साथ में पार्क पहले ही थी अब और सुंदर हो गई। ट्रैक भी बन गए, आसपास सौंदर्यकरण की योजना भी है। लोग भूले नहीं होंगे, यहां कभी कसाइयों वाला ऐतिहासिक तालाब होता था। साथ में एक कुआं। पूरे शहर को पानी की आपूर्ति का सबसे बड़ा साधन, यहीं कुआ था। तालाब का बहुत बड़ा हिस्सा तो भूमाफिया की भेंट चढ़ चुका था। शेष में भी अब सैर के लिए ट्रैक बना दिए गए हैं। अच्छे भी लग रहे हैं। एतिहासिक कुआं पाट दिया गया। केवल बुर्ज खड़े हैं। इन सबके बीच एक गड्ढानुमा झील सी बनी है। इसकी रिटर्निंग वाॅल भी हैं। इस स्थान से मिट्टी उठा लिए जाने के कारण ये गड्ढा बना है। कसाइयों वाले तालाब का खो जाना, कुएं का पाटा जाना, एक अलग से मुद्दा है। सही और गलत पर अलग से बहस है।
मुद्दा ये है
आज मुद्दा ये हैं कि ये जो बीच में बचा है ये क्या है? नगरपालिका के निवर्ततमान उपप्रधान शैंकी गिरधर की माने तो यह तालाब का हिस्सा बचा है। अगर ये तालाब है तो इसमें बारिश का पानी कहां से आएंगा। पानी आने का कोई रास्ता तो बचा ही नहीं है।

कसाइयों वाले तालाब परिसर में बना दिए गए हैं सैर के लिए ट्रैक

योजना ये है
शैंकी गिरधर का कहना है कि पहला लक्ष्य तालाब की शेष भूमि को भूमाफिया से बचाना था। जो बचा ली गई। सरकार के दिशा निर्देशों के कारण तालाब कीे भूमि को तालाब के लिए ही प्रयोग किया जा सकता था। इसलिए तालाब के भाग को छोड़ा गया है। योजना के अनुसार इसमें भिवानी डिस्ट्रीब्यूटरी से सीधा पानी लाया जाएगा। तल को नीचे से कच्चा ही रखा जाएगा। पानी के आने और निकासी की अलग से व्यवस्था होगी। इस संबंध में एस्टीमेट भी बन चुका है। संभव है शीघ्र ही इस पर कार्य आरंभ हो। हालांकि गिरधर का ये भी कहना है कि कुएं के बचे हुए भाग का सौंदर्यकरण भी होगा।

धीरज दुरेजा

लघु जलघर बने तो अच्छा है
वार्ड छह निवासी धीरज दुरेजा का कहना है कि इस स्थान पर लघु जलघर बने तो अच्छा है। इससे शहर की पेयजल की समस्या का काफी हद तक समाधान होगा। शैंकी गिरधर का भी कहना है कि महम में पानी की किल्लत है। लघु जलघर बना कर शहर के पूर्व हिस्से को यहां से पानी की सप्लाई की जा सकती है। इस संबंध में उन्होंने अधिकारियों संे कहा है। आगे भी इस दिश में प्रयास करते रहेंगे। नागरिक भी यही चाहते हैं कि यहां लघु जलघर बनाया जाए। वार्ड 6 निवासी टोनी धींगड़ा का कहना है कि अब यह जगह भूमाफिया से भी बच गई और प्रयोग में भी आ रही है।

टोनी धींगड़ा

खैर अगर कुएं की बुर्जों की ऐतिहासिकता बची रहे और सौंदर्यकरण हो जाए। तालाब तो अब पुराने रूप में लाया जाना संभव नहीं है। जो बचा है उसको उपयोगी बना दिया जाए तो अच्छा ही होगा।24c न्यूज/ इंदु दहिया

काॅमेन्ट बाॅक्स में जाकर काॅमेन्ट अवश्य करें। आप अपनी प्रतिक्रिया व्हाटसेप नम्बर 8053257789

आज की खबरें आज ही पढ़े
साथ ही जानें प्रतिदिन सामान्य ज्ञान के पांच नए प्रश्न तथा जीवनमंत्र की अतिसुंदर कहानी
डाउनलोड करें, 24c न्यूज ऐप, नीचे दिए लिंक से

Link: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कृष्णा बसों को लेकर निदेशक राज्य परिवहन ने परिवहन आयुक्त को लिखा पत्र

हिसार से दिल्ली रूट पर चलती हैं 16 कृष्णा बसें महम, 7 फरवरी हिसार से दिल्ली रूट पर चलने...

स्कार्पियों ने स्कूटी को मारी टक्कर, महिला घायल

महम थाने में मामला दर्ज महम, 7 फरवरी महम के पास एक महिला की इलैक्ट्रिक स्कूटी को एक स्कार्पियो...

गांव सीसर खास से युवक लापता, पिता ने कराया मामला दर्ज

फोन भी बंद आ रहा है महम, 7 फरवरी गांव सीसर खास से तीन फरवरी दोपहर 12 बजे घर...

हाईवे ने आटो को मारी टक्कर, छह लोग घायल

बहुअकबरपुर थाना क्षेत्र का मामला महम, 7 फरवरी बहुअकबरपुर थाना क्षेत्र के गांव डोभ के पास हुए एक हादसे...

Recent Comments

error: Content is protected !!