Home जीवनमंत्र ऐसे हो गया मंत्री का मृत्युदंड माफ-जीवनमंत्र 24सी

ऐसे हो गया मंत्री का मृत्युदंड माफ-जीवनमंत्र 24सी

मौत की सजा से भी नहीं घबराया मंत्री

सुना है एक बार किसी राजा ने अपने एक मंत्री को फांसी की सजा सुना दी। मंत्री संगीत प्रेमी था। उस दिन उसके घर मेहमान आए थे। घर में एक आयोजन चल रहा था। सब लोग मस्ती में नाच गा रहे थे। संगीत की महफिल सजी थी।
तभी राजा के सिपाहियों ने आकर उसे सूचना दी कि उसे आज शाम पांच बजे फांसी पर लटका दिया जाएगा। ये राजा का हुक्म है। घर में मातम छा गया। परिवार के लोग रोने लगे। संगीत बंद हो गया, लेकिन वह मंत्री बिल्कुल भी विचलित नहीं हुआ।

उसने कहा शुक्र है राजा ने पांच बजे तक का वक्त दिया। तब तक यह आयोजन पूरा हो जाएगा। अच्छा मौका है आज मैं अपने अंतिम समय में संगीत सुन रहा हूं। संगीत बंद नहीं होना चाहिए। सब लोग नाच गाना जारी रखें। मंत्री पहले से भी खुश था।
उसकी इच्छा को ध्यान में रखते हुए आयोजन पहले की तरह जारी रहा। यह बात राजा तक भी पहुंच गई। राजा बहुत हैरान हुए। वे स्वयं उस आयोजन को देखने आए। उन्हें वैसा ही देखा जैसा उन्हें बताया गया था।
राजा को अपनी भूल का अहसास हो गया। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति मौत का भी ऐसे स्वागत करता है। वो कभी अपराध नहीं कर सकता। जरुर उन्हें समझने में कोई भूल हुई है। राजा ने मंत्री को दिया मृत्युदंड वापिस ले लिया।
तभी तो कहा गया मरने से पहले भी क्यूं मरा जाएं, जो भी जीवन मिला है उसे आनंद के साथ व्यतीत करें। 
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

दिव्यांगजनों की सेवा ही मानव का सबसे बड़ा धर्म-सांसद रामचंद्र जांगड़ा

अपने निवास पर जनसमस्याएं भी सुनी महम, 26 नवम्बरराज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने शनिवार को रोहतक में पदमश्री पूर्व...

महाराजा अग्रसेन स्कूल में मनाया एनसीसी स्थापना दिवस

भाषण व निबंध प्रतियोगिताएं हुई महम, 26 नवंबर महाराजा अग्रसेन पब्लिक स्कूल महम में शनिवार को राष्ट्रीय कैडेट कोर...

राकवमावि सैमाण में हुआ कौशल महोत्सव का आयोजन

कक्षा 9 से 12 की छात्राओं ने तैयार किए मॉडल महम, 26 नवंबर राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सैमाण...

सन्नी सुसाइड केस-प्रियंका ने इच्छा मृत्यु के लिए राष्ट्रपति को लिखा पत्र!

एएसपी कृष्ण लोचब से मिले परिजन महम, 25 नवंबर सन्नी सुसाइड केस में आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को...

Recent Comments

error: Content is protected !!