Home अपराध अज्ञात असामाजिक तत्वों ने शहीद की प्रतिमा को किया खंडित। मरोणापंरात राष्ट्रपति...

अज्ञात असामाजिक तत्वों ने शहीद की प्रतिमा को किया खंडित। मरोणापंरात राष्ट्रपति पुलिस पदक से नवाजा गया था शहीद पुलिसकर्मी को। ड्यूटी के दौरान जान देकर भी निभाया था राष्ट्र के प्रति फर्ज।

लाखनमाजरा थाना क्षेत्र के गांव चिड़ी में हुई शर्मनाक वारदात

गांव की पंचायती भूमि में बनी थी शहीद की प्रतिमा
2005 में बदमाशों से मुठभेड़ में लगाए थे प्राण दाव पर
एक अन्य साथी पुलिसकर्मी भी हो गया था शहीद
महम

लाखनमाजरा थाना क्षेत्र के गांव चिड़ी में अज्ञात असामाजिक तत्वों ने एक शर्मनाक वारदात को अंजाम दिया है। गांव के शहीद पुलिसकर्मी की प्रतिमा को बीती रात खंडित कर दिया गया। प्रतिमा गांव की पंचायती भूमि पर बनी थी। गांव में इस वारदात को लेकर रोष है। शहीद पुलिसकर्मी के भाई के बयान पर लाखनमाजरा पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज किया है।
शहीद के चचेरे भाई विकास दलाल पुत्र अत्तर सिंह ने बताया कि उसका भाई रामकिशन पुत्र प्रेमचंद हरियाणा पुलिस में नौकरी करता था। वह ड्यूटी के दौरान 20 अप्रैल 2005 को शहीद हो गया था। उसकी प्रतिमा गांव की गोरी फिरनी के पास स्थापित की गई थी। गांव की पंचायत ने इस प्रतिमा की स्थापना के लिए जमीन दी थी। रात के समय किसी ने इस प्रतिमा को खंडित कर दिया।
निहत्थे रामकिशन ने ललकारा था बदमाशों को
विकास ने रामकिशन की शाहदत्त की घटना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि हवलदार रामकिशन उस समय बरौदा थाने में तैनात था। उसकी ड्यूटी राइडर पर थी। उसके साथ उसका एक अन्य पुलिसकर्मी साथी रणधीर भी राइडर पर सवार था। उन दोनों ने शक होने पर स्कूटी को पैदल ले जा रहे तीन बदमाशों से पूछताछ की।
बदमाशों ने पुलिसकर्मी रणधीर की कारबाइन छीनकर उस पर गोली दाग दी। रणधीर की मौके पर ही मौत हो गई। रामकिशन निहत्था था। इसके बावजूद उसने हिम्मत नहीं हारी। वह निहत्था ही बदमाशों को काबू करने के लिए उनसे भिड़ गया। रामकिशन अंतिम सांस तक बदमाशों को काबू करने का प्रयास करता रहा।

प्रतिमा स्थल पर कार्रवाई करती पुलिस

अपने ही मोबाइल से थाने को किया सूचित
विकास ने बताया कि रामकिशन ने गंभीर रूप घायल होने के बावजूद अपने ही मोबाइल फोन से बरौदा थाने को घटना के बारे में सूचित किया। उसने थाने में बताया कि उसकी साथी की मौत हो चुकी है। उसका भी बचना मुश्किल है। बाद में पकड़े जाने के बाद बदमाशों ने बताया कि डैकती की एक बड़ी वारदात को अंजाम देने की तैयारी कर रहे थे।

प्रतिमा स्थल पर उपस्थित ग्रामीण

प्रतिमा परिसर का निर्माण कार्य जारी है
विकास ने बताया कि शहीद रामकिशन को उनकी बहादुरी के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित किया गया है। उनकी प्रतिमा का इसी वर्ष एक जनवरी का ही रहा था। प्रतिमा की छतरी बनाई जा रही थी। अज्ञात असमाजिक तत्वों ने प्रतिमा को खंडित कर दिया। पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज आरोपियों की तलाश आरंभ कर दी है। इंदु दहिया/ 8053257789

24c न्यूज की खबरें ऐप पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें 24c न्यूज ऐप नीचे दिए लिंक से

Link: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

दिव्यांगजनों की सेवा ही मानव का सबसे बड़ा धर्म-सांसद रामचंद्र जांगड़ा

अपने निवास पर जनसमस्याएं भी सुनी महम, 26 नवम्बरराज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने शनिवार को रोहतक में पदमश्री पूर्व...

महाराजा अग्रसेन स्कूल में मनाया एनसीसी स्थापना दिवस

भाषण व निबंध प्रतियोगिताएं हुई महम, 26 नवंबर महाराजा अग्रसेन पब्लिक स्कूल महम में शनिवार को राष्ट्रीय कैडेट कोर...

राकवमावि सैमाण में हुआ कौशल महोत्सव का आयोजन

कक्षा 9 से 12 की छात्राओं ने तैयार किए मॉडल महम, 26 नवंबर राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सैमाण...

सन्नी सुसाइड केस-प्रियंका ने इच्छा मृत्यु के लिए राष्ट्रपति को लिखा पत्र!

एएसपी कृष्ण लोचब से मिले परिजन महम, 25 नवंबर सन्नी सुसाइड केस में आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को...

Recent Comments

error: Content is protected !!