Home ब्रेकिंग न्यूज़ भारत-पाक बंटवारे की आंखों देखी बातें जो अब तक आपने नहीं सुनी,...

भारत-पाक बंटवारे की आंखों देखी बातें जो अब तक आपने नहीं सुनी, पढ़िए संडे स्पेशल में 24सी न्यूज पर

बटवारे के दर्द को अपनी आंखों से देख चुके कन्हैया लाल खुराना की जुबानी

सरहदें बन गई, देश बट गए। जो उनका गांव था, आज तो वो उसके देश में भी नहीं है। लेकिन 73 साल बीत जाने के बाद भी वो अपने गांव का ऐसे ही चित्रण करते हैं, जैसे आज भी वो उसी गांव की गलियों में खेल रहे हों। आज भी उसे उस गांव के खजूर के पेड़ बहुत याद आते हैं। अपने घर के पीछे का बगीचा और बगीचे में कुआं आज भी उसे ठीक ऐसे ही याद है जैसे वो हर रोज वहां अब भी फल चुनता है।
भारत और पाकिस्तान अलग हुए तब कन्हैया लाल मात्र नौ साल का था। लेकिन हालातों ने नौ साल के इस बालक को इतना समझदार कर दिया कि आज 82 साल की उम्र में भी बंटवारे की सभी बातें अच्छी तरह से याद हैं।
एक-एक वाकया रौंगटे खड़ा करता हैं। कन्हैंया लाल खुराना ने बताया कि बटवारे से पहले उनके गांव का नाम कुरैशी वाला तहसील लोधरा जिला मुलतान थी। पुश्तैनी काम खेती और दुकानदारी था। दादा हकीम थे।
बदल गए थे, कुछ ने सााथ दिया
कन्हैया लाल ने बताया कि बंटवारे के समय कुछ लोग उनके खून के प्यासे दिख रहे थे तो कुछ उन्हीं में से उन्हें बचाने के लिए आगे आ गए थे। एक शेर मोहम्मद मलिक थे उन्होंने उनके परिवार को बचाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई। उन्होंने ऊंट मंगवाकर उन्हें सुरक्षित स्थान तक भेजा था। बाद में एक दरोगा ने भी उनके बिछुड़े परिवार के कुछ सदस्यों को तलाशने में मदद की। जो दोस्त दिख रहे थे दुश्मन हो गए थे और जो दुश्मन दिख रहे थे वो मदद के लिए आगे आ गए थे। एक तरफ कुछ लोग मारने के लिए उन्हें तलाश रहे थे, वहीं कुछ औरतें उनकी सलामती के लिए दुआएं भी कर रही थी।
कन्हैंया लाल ने कुछ बातें बहुत ही डरावनी भी बताई। जिन्हें बताया जाना यहां उचित नहीं है। हालांकि इतना जरुर है कि बटवारे ने इन्सान और हैवान के रूप को एक साथ उनके सामने प्रकट किया था।
साठ रुपए तौला बिका था सोना
कन्हैया लाल बताते हैं खजूर के पत्तों की पलड़ी और लकड़ी की डंडी बनाकर तराजू बना रखी थी। साठ रुपए तौला सोना बिका था। सबकुछ औने-पौने दामों पर बेचा रहा था। घोड़ियों की लीद और ज्चार की पुलियों में भी गहने और जेवरात छुपाए थे। मिट्ठी रोटी बनाकर उनमें मोती पिरोए थे। जब वो सूजाबाद के लिए बस में चढ़े तो उनके परिवार के एक दोस्त ने घड़े में उनके जेवरात छुपा के दिए। लोगों से कहा कि वो अपने दोस्त के परिवार को रास्ते में पीने के लिए पानी दे रहा है।
मनीआर्डर से मिला उधार का पैसा
कन्हैया लाल बताते हैं उनके पास जिला स्तर के कपड़े और तेल के डिपो थे। ऐसे में उनका काफी पैसा उधार में फंसा हुआ था। अब जब हम उस देश से ही आ गए तो पैसा मिलता भी कैसे, लेकिन कुछ लोगों ने ना जाने कैसे उनके पते तलाशे और मनीआर्डर से उनके पास पैसा भेजा।
यहा अब सब ठीक है
कन्हैया लाल कहते हैं शुरुआत में भी उन्होंने यहां बहुत बुरे दिन देखे। उन्होंने और उनके पिता जी ने मजदूरी की। उनकी पूरी जमीन भी उन्हें नही मिल पाई। लेकिन अब सब ठीक है। वे खुशी और आनंद से यहां रह रहे हैं, लेकिन उन्हें वो गांव याद तो आता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सन्नी सुसाइड केस-प्रियंका ने इच्छा मृत्यु के लिए राष्ट्रपति को लिखा पत्र!

एएसपी कृष्ण लोचब से मिले परिजन महम, 25 नवंबर सन्नी सुसाइड केस में आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को...

उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला पहुंचे भैणीचंद्रपाल

पूर्व चेयरमैन नरेश बड़ाभैंण के भतीजा व भतीजी को दिया आशीर्वाद महम, 25 नवम्बर उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला शुक्रवार को...

‍सन्नी सुसाइड केस- लघु सचिवालय में धरना जारी! विधायक ने की पुलिस अधिकारियों से बात! आरोपियों को गिरफ्तारी होने तक धरना जारी रखने की...

एएसपी कृष्ण लोचब की अध्यक्षता में एसआईटी गठित सन्नी सुसाइड मामले में आरोपियों की गिफ्तारी की मांग को लेकर...

‍सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने जरुतमन्दों को कंबल वितरित किए

जनसमस्याएं भी सुनी राज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने शुक्रवार महम में गाड़िया लोहार समाज के लोगो को कंबल वितरित...

Recent Comments

error: Content is protected !!