Home जीवनमंत्र क्या युवक मांग पाया राजा से अशर्फियां?- आज का जीवनमंत्र 24c

क्या युवक मांग पाया राजा से अशर्फियां?- आज का जीवनमंत्र 24c

परम आनंद पाने में नहीं, छोड़ने में है

एक गरीब शिष्य इस बात को लेकर बेहद परेशान था कि वो शिक्षा के उपरांत अपने गुरु को गुरु दक्षिणा में भेंट नहीं दे पाया। हालांकि उसके गुरु की उससे भेंट की कोई अपेक्षा नहीं थी।
युवक ने किसी से सुना कि वहां का राजा दानवीर है। सुबह उसके पास कोई भी पहला याचक आता है तो राजा उस याचक को मुंह मांगी भेंट दे देता है।
युवक सुबह जल्दी राजा के आने से पहले ही महल के बगीचे के द्वार पर जा बैठा। राजा ज्यों ही सुबह बाहर आया युवक ने कहा ‘महाराज मैं आज का पहला याचक हूं।’
राजा कहा है ‘जी हां आप आज के ही नहीं मुझे तो अब तक के पहले याचक लगते हो। बोलो क्या मांगना है। जो भी मांगोगे। वो मिलेगा।’
अब युवक का दिमाग घुमने लगा। उसे सोचा कुछ ज्यादा मांग लूं। युवक संशय में पड़ गया।
राजा ने कहा ‘शायद सोच कर नहीं आए। मैं बगीचे का एक चक्कर लगा लूं तब तक सोच लो।’
अब युवक दिमाग से गुरु की पांच अशर्फियां निकल चुकी थी। गणित शुरु हो गया था। वो सोचने लगा क्यूं नहीं करोड़ो, अरबों अशर्फियां मांग लूं।

लोभ जब पैर पसारता है पाने की इच्छा असीम हो जाती है।
राजा बगीचे का चक्कर लगा कर आया तो युवक ने राजा से कहा ‘आप जो पहने हैं उन्हीं कपड़ों में बाहर निकल जाओ। जो भी आपका है वो सब मेरा। आपने मुझे वचन दिया है।’
राजा खिलखिला कर हंसा। उसने कहा-‘ हे भगवान आपका लाख-लाख शुक्र है, जिस आदमी की मुझे तलाश थी वो मिल गया।

राजा ने युवक से कहा ‘सभी वस्त्र क्यूं, मेरे लिए तो एक ही वस्त्र काफी है। आपकों कभी पछतावा ना रहे कि मैने राजा के पास उसके कीमती वस्त्र क्यूं छोड़े।’ राजा ये कह कर वस्त्र उतारने लगा।
युवक फिर संशय में पड़ गया। देने वाले की देने की इच्छा प्रबल हो तो मांगने वाला दुविधा में पड़ जाता है।
युवक ने राजा से कहा ‘आप बगीचे का एक चक्कर और लगा आएं। मैं कुछ और सोचना चाहता हूं। राजा एक चक्कर और लगाने गया। वापिस आया तो युवक नहीं था।’
युवक की समझ में आ चुका था। परम सुख मान, सत्ता और दौलत में नहीं हैं, ऐसा होता तो राजा छोड़ता ही क्यों?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आर्य स्कूल फरमाणा ने घोषित किया प्रथम टर्म का परीक्षा परिणाम

प्राचार्या ने कहा बच्चे फोन व टीवी से दूर रहें महममहम चौबीसी के गांव फरमाणा के आर्य वरिष्ठ माध्यमिक...

आरकेपी मदीना में हुई अध्यापक-अभिभावक संगोष्ठी

अध्यापक-अभिभावक संवाद विद्यार्थियों के विकास के लिए आवश्यक-रवींद्र दांगी पहली टर्म का परीक्षा परिणाम घोषितमहमरामकृष्ण परमहंस वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल...

आखिर मंथरा ने लगा दी आग, रानी केकैयी ने मांग लिया राम के लिए बनवास

महम की पंचायती और आदर्श दोनों लगभग साथ-साथ चल रही हैं रामलीलाएं महममहम में चल रही पंचायती व आदर्श...

महम की हर बेटी को कामयाब होते देखना है सपना -विधायक बलराज कुन्डू

महम हलके से रोहतक पढ़ने जाने वाली बेटियों के साथ किया संवाद बेटी के जन्मदिन को हलके की अन्य...

Recent Comments

error: Content is protected !!