Home जीवनमंत्र मधु मिला तो भय भूल गया राजा-जीवनमंत्र 24सी

मधु मिला तो भय भूल गया राजा-जीवनमंत्र 24सी

मानव सांसरिक सुख मिलते ही जीवन की चुनौती भूल जाता

एक बार एक राजा युद्ध में हार गया। दुश्मन के सैनिक उसके पीछे लगे थे। वो भाग रहा था। अचानक एक जगह गहरी खाई आ गई। आगे रास्ता नहीं था। खाई की ओर झूककर देखा तो नीचे दो शेर उसकी ओर मुंह बाएं खड़े थे।
उसे लगा कि खाई में नीचे की ओर जाते ही शेर उसे खा जाएंगे। वापिस भागेगा तो दुश्मन के सैनिक उसे मारेंगे। वह एक पेड़ से लटक गया। सोचा हो सकता है सैनिकों का ध्यान इस ओर ना आए।
तभी एक हाथी आया और पेड़ को जोर-जोर से हिलाने लगा। इतना जोर से कि लग रहा था कि हाथी पेड़ को उखाड़ना ही चाहता है। भयभीत राजा को लगा कि मौत अब तो आने ही वाली है।
तभी पेड़ पर लगे एक मधु छाते से मधु की बूंदे उसके ओठों पर गिरने लगी और वह मधु को चाटने लगा। मधु की मिठास में वह दुश्मन के सैनिकों को भी भूल गया। और शेरों को भी। हाथियों से पेड़ उखड़ने का भय भी उसे नहीं रहा।
ठीक उसी प्रकार मानव भी सांसरिक मधु मिलते ही जीवन की चुनौतियों को भूल जाता है। और उसके साथ लगे हुए अज्ञान रुपी दुश्मनों से बेखबर हो जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

निंदाना में लगे भंडारे में पहुँचे आम आदमी पार्टी के नेता

टीन शेड का हुआ उद्घाटन महम, 4 फरवरी महम के निंदाना गांव में दादा डहरी वाला मंदिर में विशाल...

रविदास जयंती पर निकाली शोभायात्रा

गांव भैणी सुरजन में हुआ आयोजन महम, 4 फरवरी गांव भैणी सुरजन में संत शिरोमणि गुरु रविदास जी महाराज...

पुत्रियों पर पिता की हत्या का आरोप, 26 जनवरी को हुई थी भैणीमातो के कर्मबीर की मौत

मृतक के भाई के बयान पर हुआ मामला दर्ज महम, 4 फरवरीगांव भैणीमातो के कर्मबीर की मौत के मामले...

स्वामी सत्यपति परिव्राजक की पुण्यतिथि पर फरमाणा होगा कार्यक्रम

आर्य सन्यासी स्वामी मुक्तिवेश रहेंगे मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित महम, 4 फरवरी स्वामी सत्यपति परिव्राजक की पुण्यतिथि...

Recent Comments

error: Content is protected !!