Home ब्रेकिंग न्यूज़ वास्तविक जीवन में भी जीते हैं ‘पुरुषोतम’ श्रीराम को-विशेष रामलीला कलाकार 24सी

वास्तविक जीवन में भी जीते हैं ‘पुरुषोतम’ श्रीराम को-विशेष रामलीला कलाकार 24सी

राम की भूमिका में बहुत पसंद किए जाते रहे हैं पुरुषोतम गोयल

राम की भूमिका में बहुत पसंद किए जाते रहे हैं पुरुषोतम गोयल
1977 से शुरु किया था रामलीला में अभिनय का सफर
लक्ष्मण मूर्छा के दृश्य में आ जाते थे दर्शकों को आंसू
24सी न्यूज, रामलीला कलाकार विशेष

उनके लिए श्रीराम केवल नाट्य भूमिका नहीं है। वे श्रीराम के आदर्शों का पालन भी करते हैं। वे श्रीराम और संतों को गाते भी हैं। संयोग से माता-पिता ने नाम भी पुरुषोत्तम ही दिया। रामलीला में भी ‘पुरुषोत्तम’ की भूमिका निभाते-निभाते खुद भी पुरुषोत्तम हो गए हैं पुरुषोत्तम गोयल।
आदर्श रामलाली में राम की भूमिका निभाने वाले पुरुषोत्तम गोयल ने इस भूमिका को एक खास पहचान दी है। 1977 में लक्ष्मण की भूमिका निभाने के लिए नाट्य रामलीला में चयनित हुए पुरुषोत्तम को 1985 में राम की भूमिका मिली। उसके बाद दो हजार पांच तक लगातार वे इस भूमिका को निभाते रहे। उन्होंने रामलीला में राम व लक्ष्मण के अतिरिक्त श्री विष्णु हरि की भूमिका भी निभाई है।
पुरुषोत्तम बचपन में गली की रामलीला में भी भाग लेते और राम की भूमिका ही निभाते थे। पुरुषोत्तम पूरी तरह सात्विक जीवन जीते हैं। रामलीला के दिनों में उनके नियम और अधिक कड़े हो जाते थे। धार्मिक आयोजनों में खास रुचि रखते हैं।
भक्त जी को मानते हैं आदर्श
महम के अधिकतर कलाकारों की तरह पुरुषोत्तम गोयल भी श्री रामकुमार भक्त जी को रामलीला में अपना आदर्श मानते हैं। उनका कहना है कि श्री भक्त जी ने उनके साथ कड़ी मेहनत की और उन्हें इस लायक बनाया कि उन्हें राम की भूमिका में पंसद किया जाने लगा। उन्होंने बताया कि पूरी रामलीला में राम की भूमिका में लगभग हर तर्ज के तीस से अधिक गाने हैं, जो भक्त जी आशीर्वाद से वे अच्छे से गा पाए।

धनुष तोड़ते हुए राम


आ गई थी बारिश
पुरुषोत्तम गोयल बताते हैं कि एक बार लक्ष्मण मूर्छा का दृश्य चल रहा था। वे भूमिका को वास्तविक रूप से जी रहे थे। उन्हें लग रहा था कि लक्ष्मण के रूप में उनका अपना भाई ही जैसे मूर्छित है। वे वास्तव में ही रो रहे थे। लगभग सभी दर्शकों को भी आंसू आए हुए थे। संयोग से उसे वक्त बारिश भी आ गई थी। लक्ष्मण की भूमिका में अजय सिंगला थे। उस सीन आज भी खूब चर्चा होती है। वे बताते हैं कि लक्ष्मण मूर्छा के दृश्य में उन्होंने अक्सर सभी दर्शकों को आंसूओं से भीगे देखा है।

जनक दरबार में राम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

रोड़ साइड नालों की देखभाल भी अब पालिका ही करेगी

पीडब्ल्यूडी बी एंड आर विभाग ने म्यूनिसिपल कमीशनर को लिखा पत्र महम, 6 फरवरी नगरपालिका एरिया में आने वाले...

फुटबॉल खिलाड़ी विकास रोहिल्ला का मदीना में हुआ स्वागत

21 हज़ार नकद व सम्मान पत्र दिया गया महम, 6 फ़रवरी फुटबॉल खिलाड़ी विकास रोहिल्ला का गांव मदीना में...

स्वामी सत्यपति की द्वितीय पुण्यतिथि पर फरमाणा में हुआ आयोजन

स्वामी जी के जीवन चरित्र व शिक्षाओं को याद किया महम, 6 फरवरी महम के गांव फरमाना में विश्व...

निंदाना में लगे भंडारे में पहुँचे आम आदमी पार्टी के नेता

टीन शेड का हुआ उद्घाटन महम, 4 फरवरी महम के निंदाना गांव में दादा डहरी वाला मंदिर में विशाल...

Recent Comments

error: Content is protected !!