Home जीवनमंत्र कैसे बदल गई राजा और दुकानदार की सोच?जीवनमंत्र24c

कैसे बदल गई राजा और दुकानदार की सोच?जीवनमंत्र24c

समझदार मंत्री की योजना ने बदल दी सोच

एक बार एक राजा अपने राज्य के भ्रमण पर था। वह अचानक चंदन की लकड़ी बेचने वाले एक व्यापारी की दुकान के सामने रुका और  मंत्री से कहा- ” मुझे ऐसा लगता है कि इस दुकान के मालिक को फांसी दे देनी चाहिए।”

मंत्री ने राजा से पूछा कि महाराज इसका अपराध क्या है?

राजा ने कहा, ” नहीं जानता, लेकिन पता नहीं क्यों, मैं इसे फांसी देना चाहता हूं।”

यह सुनकर मंत्री को बहुत दु:ख हुआ।

अगले दिन, मंत्री उस दुकानदार से मिलने के लिए एक साधारण नागरिक के भेष में उसकी दुकान पर पहुँचा। उसने दुकानदार से ऐसे ही पूछ लिया कि उसका व्यापार कैसा चल रहा है? दुकानदार ने बहुत दुखी होकर बताया कि मुश्किल से ही उसे कोई ग्राहक मिलता है। लोग उसकी दुकान पर आते हैं, चंदन को सूँघते हैं और चले जाते हैं। वे चंदन कि गुणवत्ता की प्रशंसा भी करते हैं, पर ख़रीदते कुछ नहीं। 

अब उसकी आशा केवल इस बात पर टिकी है कि राजा जल्दी ही मर जाए। उसकी अन्त्येष्टि के लिए बड़ी मात्रा में चंदन की लकड़ी खरीदी जाएगी। वह आसपास अकेला चंदन की लकड़ी का दुकानदार था, इसलिए उसे पक्का विश्वास था कि राजा के मरने पर उसके दिन बदलेंगे।अब मंत्री की समझ में आ गया कि राजा उसकी दुकान के सामने क्यों रुका था और क्यों दुकानदार को मार डालने की इच्छा व्यक्त की थी।

शायद दुकानदार के नकारात्मक विचारों की तरंगों ने राजा पर वैसा प्रभाव डाला था, जिसने उसके बदले में दुकानदार के प्रति अपने अन्दर उसी तरह के नकारात्मक विचारों का अनुभव किया था।

बुद्धिमान मंत्री ने इस विषय पर कुछ क्षण तक विचार किया। फिर उसने अपनी पहचान और पिछले दिन की घटना बताये बिना कुछ चन्दन की लकड़ी ख़रीदने की इच्छा व्यक्त की। दुकानदार बहुत खुश हुआ। उसने चंदन को अच्छी तरह कागज में लपेटकर मंत्री को दे दिया।मंत्री सीधा दरबार में गया और सूचना दी कि चंदन की लकड़ी के दुकानदार ने उसे एक भेंट भेजी है। 

राजा को आश्चर्य हुआ। जब उसने बंडल को खोला तो उसमें सुनहरे रंग के श्रेष्ठ चंदन की लकड़ी और उसकी सुगंध को देखकर बहुत प्रसन्न हुआ। 

प्रसन्न होकर उसने चंदन के व्यापारी के लिए कुछ सोने के सिक्के भिजवा दिये।

राजा को यह सोचकर अपने हृदय में बहुत खेद हुआ कि उसे दुकानदार को मारने का अवांछित विचार आया था।

जब दुकानदार को राजा से सोने के सिक्के प्राप्त हुए, तो वह भी आश्चर्यचकित हो गया। 

वह राजा के गुण गाने लगा जिसने सोने के सिक्के भेजकर उसे ग़रीबी के अभिशाप से बचा लिया था। कुछ समय बाद उसे अपने उन कलुषित विचारों की याद आयी जो वह राजा के प्रति सोचा करता था। उसे अपने व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए ऐसे नकारात्मक विचार करने पर बहुत पश्चात्ताप हुआ।

यदि हम दूसरे व्यक्तियों के प्रति अच्छे और दयालु विचार रखेंगे, तो वे सकारात्मक विचार हमारे पास अनुकूल रूप में ही लौटेंगे। लेकिन यदि हम बुरे विचारों को पालेंगे, तो वे विचार हमारे पास उसी रूप में लौटेंगे।

आपका दिन मंगलमय हो!!!

For more updates, Download 24C News app : https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पुलिस-पब्लिक सम्मेलन में खुल कर बोले हलकावासी, पुलिस पर लगाए आरोप

आईजी ने कहा हर शिकायत का होगा निपटान महममहम में पुलिस-पब्लिक सम्मलेन में हलकावासी खुलकर बोले। पुलिस की भी...

सोने जैसा हिरण देख माता जानकी खा गई धोखा, हो गया हरण

रामलीलाओं में सीताहरण और राम-सबरी मिलन की लीला का हुआ मंचन महममहम में रामलीलाओं के मंचन का दर्शक भरपूर...

दिल्ली से आएं हैं महम में जलने के लिए रावण, कुंभकर्ण व मेघनाथ

पंजाबी रामा क्लब ने कर ली पुतला दहन की पूरी तैयारी महमहर वर्ष की भांति इस वर्ष भी महम...

अग्रसेन स्कूल के विद्यार्थियों ने दिया बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश

स्कूल में दशहरा पर्व पर किया गया रावण दहन महममहम के महाराजा अग्रसेन स्कूल में दशहरा पर्व के उपलक्ष्य...

Recent Comments

error: Content is protected !!