Home जीवनमंत्र जीवन में ज़रुरी है धैर्यवान बनना- आज का जीवन मंत्र 24c

जीवन में ज़रुरी है धैर्यवान बनना- आज का जीवन मंत्र 24c

महात्मा बुद्ध की शिक्षा

महात्मा बुद्ध को एक सभा में भाषण करना था। जब समय हो गया तो महात्मा बुद्ध आए और बिना कुछ बोले ही वहाँ से चल गए। तक़रीबन एक सौ पचास के क़रीब श्रोता थे। दूसरे दिन तक़रीबन सौ लोग थे पर फिर उन्होंने ऐसा ही किया बिना बोले चले गए। इस बार पचास कम हो गए।

तीसरा दिन हुआ साठ के क़रीब लोग थे महात्मा बुद्ध आए, इधर–उधर देखा और बिना कुछ कहे वापिस चले गए। चौथा दिन हुआ तो कुछ लोग और कम हो गए तब भी नहीं बोले। जब पांचवां दिन हुआ तो देखा सिर्फ़ चौदह लोग थे। महात्मा बुद्ध उस दिन बोले और चौदह लोग उनके साथ हो गए।

किसी ने महात्मा बुद्ध को पूछा आपने चार दिन कुछ नहीं बोला। इसका क्या कारण था। तब बुद्ध ने कहा मुझे भीड़ नहीं काम करने वाले चाहिए थे। यहाँ वो ही टिक सकेगा जिसमें धैर्य हो। जिसमें धैर्य था वो रह गए।

केवल भीड़ ज़्यादा होने से कोई धर्म नहीं फैलता है। समझने वाले चाहिए, तमाशा देखने वाले रोज़ इधर–उधर ताक-झाक करते है। समझने वाला धीरज रखता है। कई लोगों को दुनिया का तमाशा अच्छा लगता है। समझने वाला शायद एक हज़ार में एक ही हो, ऐसा ही देखा जाता है।

आपका दिन शुभ हो!

ऐसे हर सुबह एक जीवनमंत्र पढने के लिए Download 24C News app:  https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

रोड़ साइड नालों की देखभाल भी अब पालिका ही करेगी

पीडब्ल्यूडी बी एंड आर विभाग ने म्यूनिसिपल कमीशनर को लिखा पत्र महम, 6 फरवरी नगरपालिका एरिया में आने वाले...

फुटबॉल खिलाड़ी विकास रोहिल्ला का मदीना में हुआ स्वागत

21 हज़ार नकद व सम्मान पत्र दिया गया महम, 6 फ़रवरी फुटबॉल खिलाड़ी विकास रोहिल्ला का गांव मदीना में...

स्वामी सत्यपति की द्वितीय पुण्यतिथि पर फरमाणा में हुआ आयोजन

स्वामी जी के जीवन चरित्र व शिक्षाओं को याद किया महम, 6 फरवरी महम के गांव फरमाना में विश्व...

निंदाना में लगे भंडारे में पहुँचे आम आदमी पार्टी के नेता

टीन शेड का हुआ उद्घाटन महम, 4 फरवरी महम के निंदाना गांव में दादा डहरी वाला मंदिर में विशाल...

Recent Comments

error: Content is protected !!