Home जीवनमंत्र ‘बिना कसौटी होत नहिं, कचन की पहचान’-महात्मा कबीर, जीवनसूत्र 24सी

‘बिना कसौटी होत नहिं, कचन की पहचान’-महात्मा कबीर, जीवनसूत्र 24सी

महात्मा कबीर की वाणी

केवल उत्तम वेश धारण करने से कोई व्यक्ति उत्तम नहीं हो जाता है। साधु का बाणा पहनने से कोई साधु नहीं हो जाता। वेश तो बस आवरण है।

आवरण ही हकीकत की पहचान नहीं होती। व्यक्ति को परखने के लिए उसे ज्ञान की कसौटी पर कसकर अवश्य देखना चाहिए।
महात्मा कबीर जी ने कहा है
भेष देख मत भूलये, बुझि लीजिये ज्ञान।
बिना कसौटी होत नहिं, कचन की पहचान।।

अर्थात वेश देख कर ही किसी को साधु या अच्छा व्यक्ति ना मान लें। उसके ज्ञान को अवश्य परख लें। कसौटी पर कसे बिना कंचन की पहचान नहीं होती।

1 COMMENT

  1. ऐसे गंदे लोगो की सामाजिक तोर पर निदा होनी चाहिए ये समाज पर कलंक होते है सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए ये राक्षस होते है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सरेआम लहराई पिस्तौल, चलाई गोली! नौ के खिलाफ मामला दर्ज

गांव किशनगढ का मामला महम, 27 जनवरी शहर से सटे गांव किशनगढ़ में कुछ युवकों द्वारा सरेआम लड़ाई झगड़ा...

मायके में आई विवाहिता घर से हुई गायब

पिता ने महम थाने में दी शिकायत महम, 27 जनवरी महम के वार्ड तीन मायके में आई एक विवाहिता...

राज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगडा ने किया महम में ध्वजारोहण

शिक्षण संस्थानों के विद्यार्थियों ने प्रस्तुत किए सांस्कृतिक कार्यक्रम उत्कृष्ट सेवा देने वाले अधिकारियों को किया गया सम्मानितमहम, 26...

किसानों ने निकाला ट्रैक्टर मार्च, 27 से रोड़ जाम करने की चेतावनी

गन्नें के भाव बढ़ाने की मांग को लेकर किसान कर रहे हैं आंदोलन महम, 25 जनवरीमहम चीनी मिल से...

Recent Comments

error: Content is protected !!