Home ब्रेकिंग न्यूज़ महम चौबीसी में कहां है कपिला गाय-पढ़े 24सी की ये न्यूज

महम चौबीसी में कहां है कपिला गाय-पढ़े 24सी की ये न्यूज

आंखें, पूंछ और खुर भी होते हैं सुनहरे

भारतीय संस्कृति में रखती है विशेष महत्व
देखने में बहुत सुंदर होती है ये गाय
कहते हैं भगवान का मानव को उपहार है ये गाय
चिकित्सकों का कहना है-होती है विशेष नस्ल


गाय का भारतीय संस्कृति में विशेष महत्व है। गाय के दूध से लेकर मूत्र और गोबर तक का चिकित्सीय प्रयोग गाय को आम जनमानस के लिए उपयोगी बनाता है। यही कारण है कि गाय को यहां माता का दर्जा प्राप्त है। वैसे तो भारत में गायों की कई नस्ले हैं। हर नस्ल की अपनी उपयोगिता तथा विशेषता है। लेकिन कपिला गाय को सीधा देव लोक से जोड़ा जाता है। गाय के पालक परमजीत उर्फ सोनू की मानें तो महम चौबीसी के गांव सीसर खास में उसकी गाय कपिला गाय है।
सोनू का कहना है कि वह लगभग ढ़ाई साल पहले इस गाय को लेकर आया था। उसे नहीं पता था कि यह गाय कपिला है। अब पता चला है। सोनू का कहना है कि धाार्मिक मान्यता के अनुसार समुंद्र मंथन के बाद जो रत्न मानव को प्राप्त हुए उनमें कपिला गाय भी शामिल थी। कई जगह इस गाय की आरती भी होती है। सोनू का कहना है कि अब यह गाय हमारे परिवार का हिस्सा है। कई लोगों ने अच्छी कीमत पर इसे खरीदने की बात की है, लेकिन वे इसे बचेंगे नहीं।

गाय पालक ऐसे दुलारता है कपिला को


ऐसी दिखती है कपिला
यह गाय दिखती सफेद और सुनहरी है। शरीर पर हाथ फेरों तो मानों मखमल है। सींग, खुर, पूंछ यहां तक कि आखों की पुतलियां भी काली नहीं हैं। सुनहरी हैं। शरीफ इतनी की बच्चे ऐसे खेलते हैं जैसे झूला हो। पूरा दिन गली के बच्चे इस गाय आसपास ऊपर नीचे खेलते रहते हैं।
अपने मुंह से खोल लेती है रस्सा
समझदार इतनी है कि अपने मुंह से ही अपनी रस्सी खोल लेती है। बिना न्यायने के दूध देती है। दूध देते हुए किसी भी प्रकार की शरारत नहीं करती। घर के हर एक सदस्य और गली के बच्चों को अच्छे से जानती और पहचान लेती है।

अपने बच्चे को दुलारती कपिला


क्या कहते हैं पशु चिकित्सक
पशु चिकित्सक डा. प्रदीप ने इस गाय का फोटो देखते ही कहा कि यह कपिला ही है। इस गाय को कपिला के अतिरिक्त गौरी या भूरी गाय भी कहा जाता है। डा. प्रदीप के अनुसार यह गाय मूल रूप से कर्नाटक की एक नस्ल है। जो उत्तर भारत में दुलर्भ है।
श्रेष्ठ होता है दूध
डा. प्रदीप का कहना है कि इस गाय की दूध की मात्रा ज्यादा नहीं होती, लेकिन इसका दूध लाभकारी बहुत होता है। इसके दूध में बीटा कैरोटीन की बहुत अधिक मात्रा होती है, जो विशेषकर बच्चों के मानसिक विकास हेतूृ श्रेष्ठ व प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला होता है।

डा. प्रदीप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

चपड़ासी को गणित पढ़ाना पड़ता है, विज्ञान का भी अध्यापक नहीं

सीएम के पैतृक गांव निंदाना में छात्राओं ने जड़ दिया स्कूल को ताला महमहरियाणा मंे नगर निंदाना के नाम...

आरकेपी स्कूल मदीना के आदित्य ने जीता रजत पदक

आदित्य का नेशनल स्कूल खेल प्रतियोगिता के लिए भी चयन महममदीना के रामकृष्ण परमहंस वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय (आरकेपी) के...

गांव मदीना में 300 ग्रामीणों की आंखों का निःशुल्क चैकअप हुआ

समाजसेवी अजीत मेहरा तथा जुगनू सरोहा के सौजन्य से लगाया गया शिविर महममहम चौबीसी के गांव मदीना में मंगलवार...

राष्ट्रीय पोषण माह के उपलक्ष्य में मदीना में निकाली साइकिल रैली

गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक आहार लेने के लिए प्रेरित किया महम्महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा सितम्बर मास को...

Recent Comments

error: Content is protected !!