Home ब्रेकिंग न्यूज़ खेड़ी गांव में बैल के लिए हुआ ’जीवन जग’-24c न्यूज की खास...

खेड़ी गांव में बैल के लिए हुआ ’जीवन जग’-24c न्यूज की खास रिपोर्ट

बचपन से आज तक एक ही किसान के घर रहा बैल

अपने घर की समृद्धि में बैल का बड़ा योगदान मानता है किसान परिवार
महम

एक समय था जब किसान अपने बैल को पुत्र से भी ज्यादा प्यार करता था। खुद भूखा रह सकता था, परिवार भूखा रह सकता था, लेकिन किसान बैल को भूखा नहीं रहने देता थां। खुद मैले कुचले कपड़ों में जीवन जी लेता था, लेकिन बैल का श्रृंगार जरूर करता था।
वक्त बदला, मशीनों और ट्रैक्टरों ने बैलों की जरूरत और महत्व दोनों को कम कर दिया। हालात ये हुए कि हजारों साल से जो बैल सामाजिक तथा धार्मिक जीवन का केंद्र था, अब हाशिए पर आ गया।
गलियों में थैलियां और गंदगी खाने को मजबूर हो गया। गाय को तो गौशाला में आसरा मिल भी जाता है, लेकिन बेचारा बैल भटकने और लाठियां खाने को मजबूर है।
महम चौबीसी के गांव खेड़ी के एक किसान परिवार ने एक अलग ही मिसाल पेश की है। इस परिवार ने अपने बैल को अपने परिवार के मुखिया की तरह सम्मान दिया है। अपने बैल के सम्मान में ’जीवनजग’ का आयोजन किया है। अर्थात बैल के जीते एक सामुहिक आयोजन, ठीक ऐसे ही जैसे किसी घर के बुजुर्ग के सम्मान किया जाता है।
इस परिवार ने ग्रामीणों तथा रिश्तेदारों के लिए भोज आयोजित किया तथा वृद्ध हो चुके बैल की पूजा अर्चना कर उसकी लंबी आयु के लिए प्रार्थना की। बैल अब काफी वृद्ध हो चुका हैं। काफी कमजोर हैं, चल फिर भी नहीं पा रहा है। यही कारण है कि इस परिवार ने बैल का जीवन जग करने का निर्णय लिया।

किसी समय ऐसी थी किसान रामफल व उसके बैल की जोड़ी (फाइल फोटो(

22 साल पहले घर में आया था बैल
परिवार का मुखिया रामफल लगभग 22 साल पहले एक आवारा बछड़े को घर लेकर आया था। इसे अपने भाई की तरह पाला। रामफल के पुत्र अजीत व नरेश ने बताया कि उन्होंने कभी एक सांटा तक इस बैल को नहीं मारा।
सांटा मारने की जरूरत भी नहीं पड़ी। यह समझदार ही इतना है। अब बेशक इसने काम करना बंद कर दिया हैं, लेकिन इसकी हैसियत घर में पहले से भी ज्यादा बढ़ी है।
बैल में अपने भाई की छवि देखते हैं
रामफल के भाई पूर्व सरपंच सुनहरा इस बैल में अपने भाई रामफल की छवि देखते हैं। रामफल अब इस दुनिया में नहंी रहें, लेकिन वे इस बैल का अपना भाई कहते हैं। रामफल इस बैल से बइेन्तहा प्रेम करते थे। यह बैल ंअंतिम समय तक उनके परिवार के साथ ही रहेगा।
श्रीशिवानंद धमार्थ चिकित्सालय खेड़ी के डाक्टर केेके लांबा ने कहा कि इस किसान परिवार ने इंसानियत व मानवता की अद्भूत मिसाल पेश की है। इससे हर किसान को बैलों के प्रति समपर्ण व सम्मान भाव रखने की प्रेरणा मिलेगी।

बैल के साथ खेड़ी का किसान परिवार

बैल के कारण बदली घर की स्थिति
इस परिवार का विश्वास है कि इस बैल के कारण ही इस घर की आर्थिक स्थिति में बदलाव आया। जब ये बैल घर मंे आया तब उनकी स्थिति इतनी बेहतर नहीं थी। धीरे-धीरे स्थिति में सुधार हुआ है और अब वे बहुत अच्छी स्थिति में हैं। ग्रामीण इस परिवार के इस कदम की मुक्तकंठ से प्रशंसा कर रहे हैं। आपाधापी के इस दौर में इस परिवार ने सच्चा किसान होने का परिचय दिया है।24c न्यूज/ इंदु दहिया 8053257789 (सभी फोटो संजय बैनीवाल)

आज की खबरें आज ही पढ़े
साथ ही जानें प्रतिदिन सामान्य ज्ञान के पांच नए प्रश्न तथा जीवनमंत्र की अतिसुंदर कहानी
डाउनलोड करें, 24c न्यूज ऐप, नीचे दिए लिंक से

Link: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पुलिस-पब्लिक सम्मेलन में खुल कर बोले हलकावासी, पुलिस पर लगाए आरोप

आईजी ने कहा हर शिकायत का होगा निपटान महममहम में पुलिस-पब्लिक सम्मलेन में हलकावासी खुलकर बोले। पुलिस की भी...

सोने जैसा हिरण देख माता जानकी खा गई धोखा, हो गया हरण

रामलीलाओं में सीताहरण और राम-सबरी मिलन की लीला का हुआ मंचन महममहम में रामलीलाओं के मंचन का दर्शक भरपूर...

दिल्ली से आएं हैं महम में जलने के लिए रावण, कुंभकर्ण व मेघनाथ

पंजाबी रामा क्लब ने कर ली पुतला दहन की पूरी तैयारी महमहर वर्ष की भांति इस वर्ष भी महम...

अग्रसेन स्कूल के विद्यार्थियों ने दिया बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश

स्कूल में दशहरा पर्व पर किया गया रावण दहन महममहम के महाराजा अग्रसेन स्कूल में दशहरा पर्व के उपलक्ष्य...

Recent Comments

error: Content is protected !!