Home अन्य कहां उजाड़ रहे हैं खड़ी कपास की फसल को किसान? अन्नदाता पर...

कहां उजाड़ रहे हैं खड़ी कपास की फसल को किसान? अन्नदाता पर दोहरी मार-24c न्यूज विशेष

गाव फरमाणा में कपास की फसल को उजाड़ने पर मजबूर हो गए किसान

जलभराव के कारण नष्ट हो गई कपास की फसल
पछेती धान लगाकर लेना चाहते हैं जोखिम
10 से 15 हजार रूपए प्रति एकड़ का हो चुका था खर्च
गत दो वषों से नष्ट हो रही थी धान की फसल
महम

सही कहा गया है जब तक फसल पक कर घर नहीं आ जाती तब तक वह किसान की नहीं होती। ना जाने कब क्या, प्राकृतिक आपदा आ जाए और किसान की पूरी मेहनत पर पानी फिर जाए। गांव फरमाणा के किसानों के साथ स्थिति ऐसी हो गई है। फरमाणा-गुगाहेड़ी रोड़ पर सौ एकड़ से ज्यादा में बारिश का कई-कई फुट पानी जमा हो गया है। कपास की फसल का पूर्णतया नष्ट होना तय है। धान पर भी भारी खतरा है।
किसानों ने कपास की फसल को नष्ट करने का निर्णय लिया है। पछेती धान की फसल लगाकर जोखिम लेना चाहते हैं। हो सकता है, कुछ फायदा ही हो जाए।
फसल नष्ट करने वाले किसानों में राजकुमार बिसला, बिट्टू व फूलकुमार आदि शामिल हैं। बिट्टू ने तो कपास की फसल नष्ट करके धान की फसल लगा भी दी।
दस हजार से ज्यादा हो चुका था खर्च
राजकुमार ने बताया कि कपास की फसल लगभग पकने की तैयार थी। एक पौधे पर 30 से 35 तक टिन्डे लग चुके थे। अब तक दस हजार से ज्यादा का खर्च हो चुका था। कपास की बिजाई के समय नहरी पानी की समस्या थी। प्रति एकड़ एक हजार से दो हजार रूपए तक के डीजल से बिजाई के लिए खेतों की सिंचाई की गई थी। इसके बाद हैरो, रूटावेटर और बुआई पर लगभग तीन हजार का खर्च आ चुका था। डेढ़ हजार रूपए का बीज आया था नलाई व हलाई पर भी तीन से चार हजार रूपए खर्च हो चंुके थे। दो बार स्पे्र भी हो चुका था। दो हजार के लगभग खर्च हो चुका था।

कपास की जगह धान की फसल लगा रहे हैं किसान

इन किसानों को दोहरी मार
उन किसानों को दोहरी मार पड़ी है, जिन्होंने ठेके पर जमीन लेकर बिजाई की थी। राजकुमार बिसला का कहना है कि इस इलाके में लगभग 40 हजार रूपए प्रति एकड़ का ठेका है। छह महीनें की फसल तो गई। अब धान का सीजन जा चुका है। पता नहीं पछेती धान होगी या नही।
दो साल से नष्ट हो रही थी धान की फसल
किसानों का कहना है कि पिछले दो साल से धान की फसल नष्ट हो रही थी। पर्याप्त बारिश हो नहीं रही थी। नहरी पानी भी पूरा नहीं मिल रहा था। हालात ये थे कि धान ने बाली तक नहीं निकाली थी। यही कारण रहा कि किसानों धान की बजाय कपास का विकल्प भी चुन लिया था। इस बार बारिश ज्यादा हो गई। कपास भी नष्ट हो गई।
कपास का होना तो मुश्किल-कृषि अधिकारी
कृषि अधिकारी देवेंद्र सांगवान ने कहा है कि ज्यादा पानी जमा होने पर कपास की फसल का नष्ट होना तो लगभग तय है। धान के लिए हालंाकि पछेत हो चुकी है, लेकिन अभी धान लगाया जा रहा है। धान की फसल में संभावना बनती है।24c न्यूज/ इंदु दहिया 8053257789

आज की खबरें आज ही पढ़े
साथ ही जानें प्रतिदिन सामान्य ज्ञान के पांच नए प्रश्न तथा जीवनमंत्र की अतिसुंदर कहानी
डाउनलोड करें, 24c न्यूज ऐप, नीचे दिए लिंक से

Link: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

’वाटर बम’ बन सकती है महम ड्रेन, क्षमता से तीन गुणा है ड्रेन में पानी

टूटने से बचाना है तो लिफ्ट या कंकरीट की दीवारें बनानी ही होंगी ढलान कम होने के कारण बार-बार...

100 से अधिक नागरिकों की हुई निःशुल्क हृदय जांच

रामगोपाल सामान्य एवं जनाना अस्पताल में लगाया शिविर महममहम में पंचायती रामलीला मैदान के सामने स्थित रामगोपाल सामान्य एवं...

सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने किया सैमाण व बेडवा के खेतों का दौरा

अधिकारियों को दिए खेतों से बारिश के पानी की जल्द निकासी के निर्देंश महमराज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा ने सोमवार...

बसपा ने चिराग योजना के विरोध में किया प्रदर्शन

नायब तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन महममहम हलके के बसपा कार्यकर्ताओं ने सोमवार को चिराग योजना के विरोध में प्रदर्शन...

Recent Comments

error: Content is protected !!