Home जीवनमंत्र क्या सभी एक जैसा सोचते है? आज का जीवनमंत्र 24c

क्या सभी एक जैसा सोचते है? आज का जीवनमंत्र 24c

अकबर बीरबल के किस्से

किसी विषय को लेकर दरबार की कार्यवाही चल रही थी। सभी अपनी अलग अलग राय पेश कर रहे थे। सभी एक-एक कर अपनी राय दे रहे थे। बादशाह अकबर दरबार में बैठे यह महसूस कर रहे थे कि सबकी राय अलग है। उन्हें आश्चर्य हुआ कि सभी एक जैसे क्यों नहीं सोचते!

यह सोच अकबर ने बीरबल से पूछा, “बीरबल क्या तुम बता सकते हो कि लोगों की राय आपस में मिलती क्यों नहीं ? हमेशा सब अलग-अलग क्यों सोचते हैं ?”

बीरबल बोला, “बादशाह सलामत हमेशा ऐसा नहीं होता! कुछ समस्याएं ऐसी होती हैं जिन पर सभी के विचार समान होते हैं।” इसके बाद कुछ और काम निपटा कर दरबार की कार्यवाही समाप्त हो गई। सभी अपने-अपने घरों को लौट चले।

उसी शाम जब बीरबल और अकबर बाग में टहल रहे थे तभी बादशाह अकबर ने फिर वही राग छेड़ दिया और बीरबल से बहस करने लगे।

तब बीरबल बाग के ही एक कोने की ओर उंगली से संकेत करता हुआ बोला, “वहां उस पेड़ के निकट एक कुआं है। वहां चलिए, मैं कोशिश करता हूं कि आपको समझा सकूं कि जब कोई समस्या जनता से जुड़ी हो तो सभी एक जैसा ही सोचते हैं। मेरे कहने का मतलब यह है कि बहुत सी ऐसी बातें हैं जिनको लेकर लोगों के विचार एक जैसे होते हैं।”

अकबर ने कुछ देर कुंए की ओर घूरा, फिर बोले, “लेकिन मैं कुछ समझा नहीं, तुम्हारे समझाने का ढंग कुछ अजीब सा है।” बादशाह जबकि जानते थे कि बीरबल अपनी बात सिद्ध करने के लिए ऐसे ही प्रयोग करता रहता है।

बीरबल बोला, “सब समझ जाएंगे हुजूर! आप शाही फरमान जारी कराएं कि नगर के हर घर से एक लोटा दूध लाकर बाग में स्थित इस कुएं में डाला जाए। दिन पूर्णमासी का होगा। हमारा नगर बहुत बड़ा है, यदि हर घर से एक लोटा दूध इस कुएं में पड़ेगा तो यह दूध से भर जाएगा।”

बीरबल की यह बात सुन अकबर ठहाका लगाकर हंस पड़े। फिर भी उन्होंने बीरबल के कहेनुसार फरमान जारी कर दिया।

शहर भर में मुनादी करवा दी गई कि आने वाली पूर्णमासी के दिन हर घर से एक लोटा दूध लाकर शाही बाग के कुएं में डाला जाए। जो ऐसा नहीं करेगा उसे सजा मिलेगी।

पूर्णमासी के दिन बाग के बाहर लोगों की कतार लग गई। इस बात का विशेष ध्यान रखा जा रहा था कि हर घर से कोई न कोई वहां जरूर आए। सभी के हाथों में भरे हुए पात्र (बरतन) दिखाई दे रहे थे।

बादशाह अकबर और बीरबल दूर बैठे यह सब देख रहे थे और एक-दूसरे को देख मुस्करा रहे थे। सांझ ढलने से पहले कुएं में दूध डालने का काम पूरा हो गया हर घर से दूध लाकर कुएं में डाला गया था। जब सभी वहां से चले गए तो अकबर व बीरबल ने कुएं के निकट जाकर अंदर झांका। कुआं मुंडेर तक भरा हुआ था। लेकिन यह देख अकबर को बेहद हैरानी हुई कि कुएं में दूध नहीं पानी भरा हुआ था। दूध का तो कहीं नामोनिशान तक न था।

हैरानी भरी निगाहों से अकबर ने बीरबल की ओर देखते हुए पूछा, “ऐसा क्यों हुआ ? शाही फरमान तो कुएं में दूध डालने का जारी हुआ था, यह पानी कहां से आया ? लोगों ने दूध क्यों नहीं डाला ?”

बीरबल एक जोरदार ठहाका लगाता हुआ बोला, “यही तो मैं सिद्ध करना चाहता था हुजूर! मैंने कहा था आपसे कि बहुत सी ऐसी बातें होती हैं जिस पर लोग एक जैसा सोचते हैं, और यह भी एक ऐसा ही मौका था। लोग कीमती दूध बरबाद करने को तैयार न थे। वे जानते थे कि कुएं में दूध डालना व्यर्थ है। इससे उन्हें कुछ मिलने वाला नहीं था। सभी यह सोच रहे थे की सब लोग दूध डाल रहे हैं, मेरे एक लोटा पानी डालने से क्या फर्क पड़ेगा, इसलिए यह सोचकर कि किसी को क्या पता चलेगा, सभी पानी से भरे बरतन ले आए और कुएं में उड़ेल दिए। नतीजा कुआँ दूध के बजाय पानी से भर गया।”

बीरबल की यह चतुराई देख अकबर बादशाह खुश हुए और उसकी पीठ थपथपाई।

बीरबल ने सिद्ध कर दिखाया था कि कभी-कभी लोग एक जैसा भी सोचते हैं।

आपका दिन शुभ हो!!!!!

ऐसे हर सुबह एक जीवनमंत्र पढने के लिए Download 24C News app:  https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पुलिस-पब्लिक सम्मेलन में खुल कर बोले हलकावासी, पुलिस पर लगाए आरोप

आईजी ने कहा हर शिकायत का होगा निपटान महममहम में पुलिस-पब्लिक सम्मलेन में हलकावासी खुलकर बोले। पुलिस की भी...

सोने जैसा हिरण देख माता जानकी खा गई धोखा, हो गया हरण

रामलीलाओं में सीताहरण और राम-सबरी मिलन की लीला का हुआ मंचन महममहम में रामलीलाओं के मंचन का दर्शक भरपूर...

दिल्ली से आएं हैं महम में जलने के लिए रावण, कुंभकर्ण व मेघनाथ

पंजाबी रामा क्लब ने कर ली पुतला दहन की पूरी तैयारी महमहर वर्ष की भांति इस वर्ष भी महम...

अग्रसेन स्कूल के विद्यार्थियों ने दिया बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश

स्कूल में दशहरा पर्व पर किया गया रावण दहन महममहम के महाराजा अग्रसेन स्कूल में दशहरा पर्व के उपलक्ष्य...

Recent Comments

error: Content is protected !!