Home जीवनमंत्र ...नहीं दिखी चांद की रोशनी-आज का जीवनमंत्र 24सी

…नहीं दिखी चांद की रोशनी-आज का जीवनमंत्र 24सी

मानव जीवन भर दीपक से पार चांद की ओर नहीं जा पाता

एक व्यक्ति एक रात एक दीपक को जलाकर शास्त्रों की अध्ययन कर रहा था। कई देर तक वह अध्ययन करता रहा। थक गया तो सोने लगा और दीपक को फूंक मार कर बूझा दिया।

लेकिन यह क्या? उसे अचानक पूर्णिमा का चांद दिखाई दिया। रोशनी चारों ओर फैली थी। जब तक वह दीपक की रोशनी को देख रहा था उसे चांद की रोशनी का आभास नहीं हो रहा था। ज्यों ही उसने दीपक की रोशनी से बाहर झांकने का प्रयास किया तो उसे चांद की रोशनी दिखाई दी। खुला आकाश और अनंत प्रकाश।

मानव भी ऐसे ही अधिकतर जीवन दीपक की रोशनी तक सीमित रहने में ही बीता देता है। चांद की रोशनी देख ही नहीं पाता।

चांद की रोशनी हम तभी देख पाएंगे जब दीपक की रोशनी से पार देखेंगेे।

आपका दिन शुभ हो

इसी प्रकार हर सुबह जीवनमंत्र पढ़ने के लिए

डाऊन लोड करें 24C News app: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

चपड़ासी को गणित पढ़ाना पड़ता है, विज्ञान का भी अध्यापक नहीं

सीएम के पैतृक गांव निंदाना में छात्राओं ने जड़ दिया स्कूल को ताला महमहरियाणा मंे नगर निंदाना के नाम...

आरकेपी स्कूल मदीना के आदित्य ने जीता रजत पदक

आदित्य का नेशनल स्कूल खेल प्रतियोगिता के लिए भी चयन महममदीना के रामकृष्ण परमहंस वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय (आरकेपी) के...

गांव मदीना में 300 ग्रामीणों की आंखों का निःशुल्क चैकअप हुआ

समाजसेवी अजीत मेहरा तथा जुगनू सरोहा के सौजन्य से लगाया गया शिविर महममहम चौबीसी के गांव मदीना में मंगलवार...

राष्ट्रीय पोषण माह के उपलक्ष्य में मदीना में निकाली साइकिल रैली

गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक आहार लेने के लिए प्रेरित किया महम्महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा सितम्बर मास को...

Recent Comments

error: Content is protected !!