Home जीवनमंत्र भगवान एक है,स्वरुप अलग-अलग-जीवनसूत्र 24c

भगवान एक है,स्वरुप अलग-अलग-जीवनसूत्र 24c

आज का जीवनसूत्र

चार यात्री एक साथ यात्रा पर थे! उनमें एक पर्शियन था! दूसरा तुर्क, तीसरा अरबी तथा चौथा  यूनानी! उनकी फल खाने की इच्छा हुई! ख़र्च करने के लिए उनके पास पैसे बहुत कम थे! पर्शियन ने कहा मै अंगूर खाना चाहता हूँ! तुर्की ने कहा नहीं मुझे तो उज़ूम खाने हैं! अब अरबी भड़क गया, ‘नहीं मुझे तो इनाब चाहिए यूनानी कहां चुप रहता, उसने कहा मैं तो सटाफ़िल खाऊंगा! अब शुरू हुआ चारों में घमासान! कोई मानने को तैयार नहीं! लड़ाई शुरू! 

खैर, एक विद्वान फ़क़ीर वहां से गुजर रहा था! उसने उनकी लड़ाई सुनी और कहा पैसे मुझे दो! फल मैं ला के देता हूँ! चारों मान गए! फ़क़ीर गया और दिए गए पैसे के अंगूर ले आया! 

तुर्क ने तुरंत कहा अरे ये तो मेरे उज़ूम हैं! अरबी ने कहा यही तो मैं मांग रहा था, ये मेरे इनाब हैं! यूनानी ने कहा ये तो मेरे स्टाफ़िल हैं! फ़क़ीर ने समझाया, तुम सब एक ही फल मांग रहे थे! फ़िर भी लड़ रहे थे! दरअसल पर्शियन के अंगूर को, तुर्की में उज़ूम, अरबी में इनाब और ग्रीक में स्टाफ़िल कहते हैं!

लडऩे से पहले समझ लें!

आपका दिन शुभ हो!!!!!

ऐसे हर सुबह एक जीवनमंत्र पढने के लिए Download 24C News app:  https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

चपड़ासी को गणित पढ़ाना पड़ता है, विज्ञान का भी अध्यापक नहीं

सीएम के पैतृक गांव निंदाना में छात्राओं ने जड़ दिया स्कूल को ताला महमहरियाणा मंे नगर निंदाना के नाम...

आरकेपी स्कूल मदीना के आदित्य ने जीता रजत पदक

आदित्य का नेशनल स्कूल खेल प्रतियोगिता के लिए भी चयन महममदीना के रामकृष्ण परमहंस वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय (आरकेपी) के...

गांव मदीना में 300 ग्रामीणों की आंखों का निःशुल्क चैकअप हुआ

समाजसेवी अजीत मेहरा तथा जुगनू सरोहा के सौजन्य से लगाया गया शिविर महममहम चौबीसी के गांव मदीना में मंगलवार...

राष्ट्रीय पोषण माह के उपलक्ष्य में मदीना में निकाली साइकिल रैली

गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक आहार लेने के लिए प्रेरित किया महम्महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा सितम्बर मास को...

Recent Comments

error: Content is protected !!