Home जीवनमंत्र पिता ने ऐसे समझाया पुत्र को जीवन का गूढ़ ज्ञान-आज का जीवनमंत्र...

पिता ने ऐसे समझाया पुत्र को जीवन का गूढ़ ज्ञान-आज का जीवनमंत्र 24c

हर परिस्थिति में अपने परमात्म पिता पर भरोसा रखिये 

एक छोटे बच्चे के रूप में, मैं बहुत स्वार्थी था, हमेशा अपने लिए सर्वश्रेष्ठ चुनता था। धीरे-धीरे, सभी दोस्तों ने मुझे छोड़ दिया और अब मेरे कोई दोस्त नहीं थे। मुझे नहीं लगता था कि यह मेरी गलती थी, मैं दूसरों की आलोचना भी करता रहता था लेकिन मेरे पिता ने मुझे जीवन में आगे बढ़ने के लिए 3 दिन 3 संदेश दिए।  

पहले दिन, मेरे पिता ने हलवे के 2 कटोरे बनाये और उन्हें मेज़ पर रख दिया।

एक के ऊपर 2 बादाम थे जबकि दूसरे कटोरे में हलवे के ऊपर कुछ नहीं था फिर उन्होंने मुझे हलवे का कोई एक कटोरा चुनने के लिए कहा क्योंकि उन दिनों तक हम गरीबों के घर बादाम आना मुश्किल था …. मैंने 2 बादाम वाले कटोरा को चुना!  

मैं अपने बुद्धिमान विकल्प पर खुद को बधाई दे रहा था और जल्दी जल्दी मुझे मिले 2 बादाम हलवा खा रहा था परंतु मेरे आश्चर्य का ठिकाना नही था जब मैंने देखा कि की मेरे पिता वाले कटोरे के नीचे 8 बादाम छिपे थे!   

बहुत पछतावे के साथ, मैंने अपने निर्णय में जल्दबाजी करने के लिए खुद को डांटा। 

मेरे पिता मुस्कुराए और मुझे यह याद रखना सिखाया कि आपकी आँखें जो देखती हैं वह हरदम सच नहीं हो सकता

उन्होंने कहा कि, यदि आप स्वार्थ की आदत को अपनी आदत बना लेते हैं तो आप जीत कर भी हार जाएंगे!  

अगले दिन, मेरे पिता ने फिर से हलवे के 2 कटोरे पकाए और टेबल पर रखे एक कटोरा के शीर्ष पर 2 बादाम और दूसरा कटोरा जिसके ऊपर कोई बादाम नहीं था।

फिर से उन्होंने मुझे अपने लिए कटोरा चुनने को कहा। इस बार मुझे कल का संदेश याद था इसलिए मैंने शीर्ष पर बिना किसी बादाम कटोरी को चुना परंतु मेरे आश्चर्य करने के लिए इस बार इस कटोरे के नीचे एक भी बादाम नहीं छिपा था!    

फिर से, पिताजी ने मुस्कुराते हुए मुझसे कहा, “मेरे बच्चे, आपको हमेशा अनुभवों पर भरोसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि समय परिवर्तनशील है इसलिए  कभी-कभी, पिछला अनुभव भी आपको धोखा दे सकता है या आप पर चालें खेल सकता है, इसलिए कभी-कभी समय को देखकर ही निर्णय लेना चाहिए, लेकिन फिर भी परिस्थितियों से कभी भी ज्यादा परेशान या दुखी न हों, परिस्थितियों से मिलने वाले अनुभव को एक सबक, अनुभव के रूप में समझें, जो किसी भी पाठ्यपुस्तकों से प्राप्त नहीं किया जा सकता है।  

तीसरे दिन, मेरे पिता ने फिर से हलवे के 2 कटोरे पकाए, एक कटोरा ऊपर से 2 बादाम और दूसरा शीर्ष पर कोई बादाम नहीं।    

मुझे उस कटोरे को चुनने के लिए कहा जो मुझे चाहिए था। 

लेकिन इस बार, मैंने अपने पिता से कहा, पिताजी, आप पहले चुनें, आप परिवार के मुखिया हैं और आप परिवार में सबसे ज्यादा योगदान देते हैं। आप मेरे लिए जो अच्छा होगा वही चुनेंगे। मेरे पिता मेरे लिए खुश थे।  

उन्होंने शीर्ष पर 2 बादाम के साथ कटोरा चुना, लेकिन जैसा कि मैंने अपने  कटोरे का हलवा खाया! कटोरे के हलवे के एकदम नीचे 7, 8  बादाम मुझे और मिल गए।

पिताजी मुस्कुराए और मेरी आँखों में प्यार से देखते हुए, उन्होंने कहा-      

मेरे बच्चे, तुम्हें सदैव यह याद रखना होगा कि, ऐसे ही, जब तुम, कोई भी बात को परमात्म पिता पर छोड़ देते हो, तो वे हमेशा तुम्हारे लिए सर्वोत्तम का चयन करेंगे, जब तुम दूसरों की भलाई के लिए सोचते हो, तो अच्छी चीजें स्वाभाविक तौर पर आपके साथ भी हमेशा होती रहेंगी।”

अज्ञात

आपका दिन शुभ हो!

ऐसे हर सुबह एक जीवनमंत्र पढने के लिए Download 24C News app:  https://play.google.com/store/apps/details?id=com.haryana.cnews

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

महम में नई अनाजमंडी परिसर में हुआ रावण दहन

पंजाबी रामा क्लब से निकली श्रीराम व रावण की रथयात्रा महममहम में दशहरा पर्व बड़ी धूमधाम से बनाया गया।...

बुराई को अच्छाई से ही भगाया जा सकता है-महाबीर सहारण

गांव फरमाणा में मनाया गया दशहर पर्व महममहम चौबीसी के गांव फरमाणा में ग्रामीणों तथा बच्चों ने दशहरा पर्व...

बेस्ट कैचर शीलू बल्हारा को विधायक बलराज कुन्डू ने किया सम्मानित

वर्ल्ड कबड्डी कप कनाड़ा-2022 के बैस्ट कैचर चुने गए हैं शीलू बल्हारा महममहम के विधायक बलराज कुन्डू ने कबड्डी...

महम की रामलीलाओं में श्रीराम और रावण के युद्ध की घोषणा हो गई

बाली वध व रावण-अंगद संवाद का भी हुआ मंचन महममहम की रामलीलाएं अब अपने अंतिम पड़ाव की ओर बढ़...

Recent Comments

error: Content is protected !!